Wednesday, July 24th, 2024

सरपंच को पानी की समस्या बताई तो किया अपमान, महिलाओं ने सरपंच पर लगाए गंभीर आरोप

सेगांव
मुख्यालय की ग्राम पंचायत सेगांव के सरपंच की तनाशाही और उग्र स्वाभाव के कारण क्षेत्र की महिला काफी आहत है और दुखी है। इसको लेकर बुधवार को जनपद पंचायत में आवेदन देकर सरपंच पर कड़ी कार्रवाई की मांग की। ग्राम पंचायत सेगांव के अंतर्गत कंचनपुरा रहवासी इलाके की ज्योति बाई, रिंकू बाई, सुमन बाई, सुनीता बाई, गौराबाई बाई सहित कई महिलाओं ने पानी की समस्या को लेकर पंचायत कार्यालय के लिए अपने घर से निकली। रास्ते में सरपंच ग्राम पंचायत सेगांव ने महिलाओं को रोक कर उनसे पंचायत में न जाने को कहा और बताया कि वहां कोई नहीं है, सिवाय चपरासी के। तुम्हें जो कहना है कहो, जो करूंगा, मैं ही करूंगा, मैं ही तुम सब का बाप हूं। ऐसा कहकर महिलाओं का अपमान किया।

महिलाओं ने आरोप लगाया है कि सरपंच के तानाशाहीपूर्ण रवैये से हम काफी दुखी हैं। हम जब भी अपनी समस्या लेकर उनके पास जाते हैं तो सरपंच कहते हैं खरगोन चले जाओ कलेक्टर के पास, किराया-भाड़ा मैं दे दूंगा। तुमसे जो बने कर लो। महिलाओं ने बताया कि हम पिछले दो दशक से पानी की समस्या से जूझ रहे हैं। भीषण गर्मी में घर से डेढ़ से दो किमी दूर पानी ला रहे हैं। हमारे घरों में आज तक नल सुविधा नहीं है और ना ही पंचायत इस पर ध्यान देती है।

सरपंच चुनाव के समय तो वोट लेने के लिए हमें बरगलाने के लिए आ जाते है। परंतु समस्या के संदर्भ में कोई ध्यान नहीं देता और जब सरपंच से बात होती है तो वह महिलाओं का अपमान कर अभद्र व्यवहार करता है। इसको लेकर हमने जनपद सीईओ को एक आवेदन पंचायत इंस्पेक्टर के माध्यम से दिया है। हम चाहते हैं कि सरपंच पर कड़ी कार्रवाई कर पद से पृथक किया जाए। पंचायत इंस्पेक्टर रमेश यादव ने बताया कि महिलाओं ने पानी की समस्याओं को लेकर सरपंच से बात की थी। सरपंच ने उनसे अभद्र व्यवहार किया। ऐसा उन्होंने आवेदन में लिखा है। मामले को संज्ञान में लेकर जिला अधिकारियों का अवगत कराकर उचित कार्रवाई की जाएगी।

पंचायत सचिव नहीं था उपस्थित
पानी की समस्या को लेकर पंचायत सचिव नारायण चौधरी को भी फोन लगा कर दो बार बुलाया पर वह उपस्थित नहीं हुए। जल्द ही ग्रामीणों की समस्या दूर कर पंचायत सचिव को भी कारण बताओं नोटिस जारी किया जाएगा।

Source : Agency

आपकी राय

15 + 6 =

पाठको की राय