Sunday, May 19th, 2024

कब है हनुमान जयंती, पवनपुत्र की कृपा के लिए इस शुभ संयोग में करें पूजा

रामभक्त हनुमान (Hanuman) को संकटमोचन (sankatamochan) कहा जाता है. अपने भक्तों को हनुमान जी हर भय, पीड़ा से मुक्त रखते हैं. दरअसल, हनुमान जी का जन्म चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि को हुआ था. इसलिए हर साल चैत्र पूर्णिामा (Purnima) को हनुमान जयंती मनाई जाती है. बता दें कि इस साल हनुमान जयंती के मौके पर अध्दुत संयोग बन रहा है. वहीं पौराणिक कथाओं के अनुसार, हनुमान जी भगवान शिव के अवतार हैं और वह त्रेतायुग में प्रभु श्री राम (Prabhu Shri Ram) की मदद के लिए यह अवतार लिया था. वैदिक पंचांग के मुताबिक, इस साल चैत्र शुक्ल पूर्णिमा तिथि का प्रारंभ 23 अप्रैल को 03 बजकर 25 मिनट पर होगा.


हनुमान जयंती 2024 पर बना अदृभुत संयोग

ऐसा कहा जाता है कि जब हनुमान जी का जन्म हुआ था तो उस दिन मंगलवार था. वहीं इस साल भी हनुमान जयंती के दिन मंगलवार है. इसलिए मंगलवार को हनुमान जी का जन्म होने कि वजह से उस दिन ज्यादातर लोग व्रत रखते हैं और बजरंगबली की पूजा भी करते हैं.

23 अप्रैल के दिन चित्रा नक्षत्र और वज्र योग है. वज्र योग सुबह से लेकर 24 अप्रैल को सुबह :04 बजकर 57 मिनट तक है. वहीं चित्रा नक्षत्र भी सुबह से लेकर रात 10 बजकर 32 मिनट तक है, उसके बाद स्वाति नक्षत्र है.

हनुमान जयंती 2024 मुहूर्त

हनुमान जयंती का शुभ मुहूर्त सुबह 04 बजकर 20 मिनट से 05 बजकर 04 मिनट  तक है. वहीं इस साल अभिजीत मुहूर्त दिन में 11 बजकर 53 मिनट से दोपहर 12 बजकर 46 मिनट तक है. उस दिन आप हनुमान जी की पूजा सुबह 09 बजकर 03 मिनट से 10 बजकर 41 मिनट के बीच  कर सकते है. उस दिन लाभ-उन्नति मुहूर्त 10 बजकर 41 मिनट से दोपहर 12 बजकर  20 मिनट तक है. वहीं अमृत-सर्वोत्तम मुहूर्त दोपहर 12 बजकर 20 मिनट से दोपहर 01 बजकर 58 मिनट तक है.

जानिए पूजा विधि

हनुमान जयंती के दिन सुबह स्नान करने के बाद साफ कपड़े पहने और बजरंगबली के लिए व्रत रखें. बता दें इस दिन पीला या फिर लाल रंग का वस्त्र धारण करना शुभ होता है. बजरंगबली की मूर्ति या प्रतिमा को लकड़ी की चौकी पर स्थापित करें, जिस पर पहले से ही पीले रंग का वस्त्र बिछा हुआ हो. फिर बजरंगबली के समक्ष घी का दीपक जलाएं और कच्चा दूध, दही, घी और शहद मिलाकर बजरंगबली का अभिषेक करें.

 इसके बाद बजरंगबली को लाल या पीले रंग का कपड़ा, कलावा, फूल, धूप, अगरबत्ती और दीया आदि अर्पित कर पूजा करें.आखिर में हनुमान जी की आरती और चालीसा का पाठ कर पूजा करें और हनुमान जी से भूलचुक के लिए क्षमा मांगें. साथ ही आशीर्वाद पाने की कामना करें.

हनुमान जी को प्रसन्न करने के उपाय

1.   हनुमान जी का दिल बहुत ही उदार हैं, इसलिए आपको हमेशा लोगों के लिए उदारता दिखानी चाहिए. खासतौर पर आपको हनुमान जयंती पर गरीबों में अन्न जरूर बांटना चाहिए.

2.  हनुमान जी श्रीराम के परभक्त माने जाते हैं, इसलिए आपको हनुमान जयंती पर भगवान राम की स्तुति भी करनी चाहिए, इससे हनुमान जी प्रसन्न होते हैं.

3.  हनुमान जी को प्रसन्न करने के लिए उन्हें बूंदी, लड्डू का प्रसाद जरूर चढ़ाएं। साथ ही हनुमान जयंती पर उन्हें केसरिया रंग का सिंदूर जरूर चढ़ाएं.

4.  इस दिन हनुमान चालीसा, सुंदरकांड, बजरंग बाण का पाठ करने हनुमान जी की कृपा हमेशा अपने भक्तों पर बरसती रहती है.

Source : Agency

आपकी राय

7 + 7 =

पाठको की राय